पृष्ठ

यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 9 जनवरी 2012

मौसम

जब हम साथ होते हैं
कभी मौसम के बारे में नहीं पूछते 
क्या ही बेमानी सी चीज़  मालूम पड़ती है
कि कहें- 
देखो 
आज धूप खिली है 
वह उगती है 
और छा जाती है
हम पर
हवा चलती है 
और बहका जाती है
बारिश में घुलती मिट्टी की
महक
बहुत जानी-सी है
और
तुम्हारी बूंदों में पल-पल सोंधा हो जाना 
मैंने सीखा है
चुपचाप.


सुनो
तुम्हारे छत पर 
क्या आज भी हँसता है चाँद
जैसे 
कभी हमारे खुले सिरों  पर
खुल-खुल बरस पड़ता था 


और
मेरी अँजुरी
बन जाती थी हरसिंगार.

8 टिप्‍पणियां:

  1. [tweet https://twitter.com/mannuanurag1/status/157832388716670977]

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति।
    बधाई........

    उत्तर देंहटाएं
  3. sudha ji prkriti ke sabhi binduon ke sametati hui yah rachana kafi prabhavshali lagi ....abhar ke sath hi badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. धन्यवाद त्रिपाठीजी! आप सबकी आलोचना भी आमंत्रित है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही खूबसूरत कविता सुधा बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ |

    उत्तर देंहटाएं